जून में दोबारा प्रदर्शित होगी फिल्म नम्बर गेम

पुनर्जन्म और बदला। यह फिल्म का नाम नहीं, बल्कि फिल्म में दिखाई जाने वाली घटनाएं हैं जिनमें किरदार का दोबारा जन्म होता है और पिछले जन्म में अपने साथ हुए बलात्कार कांड का किस तरह वो बदला लेती है, यही फिल्म ‘नम्बर गेम’ में दिखाया जाएगा। निर्माता संजय शर्मा बाबा कहते हैं कि यह कहानी पश्चिम बंगाल में हुए एक बलात्कार कांड पर आधारित है जिसमें हमने अपने तरीके से थोड़ा बदलाव किया है। इस फिल्म में हमने बलात्कार कांड को लेकर न तो तत्कालीन सरकार का विरोध किया है और न पक्ष लिया है बल्कि एक मैसेज दिया है।  फिल्म के बारे में लेखक-निर्देशक सुमित सिन्हा ने बताया कि यह फिल्म तीन जोड़ों की कहानी है।

 

एम्मी अमेरिका से भारत लौटकर अपने दोस्तों के साथ ‘नंबर गेम’ का खेल शुरू करता है। अब यह नंबर क्या है और इस फिल्म की कहानी से इसका क्या कनेक्शन है, इसके लिए आपको फिल्म देखनी होगी। फिल्म के जरिए यह संदेश दिया गया है कि अगर आप गुनाह करते हैं, तो इसकी सजा आपको जरूर मिलेगी, चाहे वो इस जन्म में मिले या अगले जन्म में। ऑर्बिट 9-एक्स फिल्म्स द्वारा प्रस्तुत हिन्दी सस्पेंस मिस्ट्री फिल्म ‘नंबर गेम’ में दो ही गाने हैं।

एक रोमांटिक और दूसरा पार्टी सॉन्ग। इन गीतों को अरुण आर.पाठक, सक्षम, विक्की, पूर्णिमा त्रिपाठी व मोहनीश विद्वान ने अपनी आवाज दी है। फिल्म ‘नंबर गेम’ में ऐश्वर्य राजेश, रिमी सौरभ, नकुल चौधरी, रमेश गोयल, जावेद, पिंपी तचंग, शिमोन अचान, अजय मिश्रा, रिव्या राय, बबीता प्रमुख भूमिकाओं में हैं। फिल्म के गीत कृष्ण भारद्वाज व सरिता चंद्रा ने लिखे हैं, और फिल्म का संगीत तैयार किया है फराज अहमद और नयन गोस्वामी ने।

नृत्य निर्देशक गौरव शेट्टी, सम्पादक अख्तर अली और कैमरामैन महेश सरोजिनी राजन हैं। निर्माता संजय शर्मा बाबा कहते हैं कि दर्शकों की डिमांड पर हम यह फिल्म जून में दोबारा प्रदर्शित करने जा रहे हैं।

Print Friendly, PDF & Email